गुरुवार, 31 मई 2012

पंखा लगे नगीना

टप- टप टपके पसीना 
गर्मी का महीना
पंखा लागे नगीना
गर्मी का महीना.
बिजली कभी रहे न
गर्मी का महीना.
झुलसा  घर और अंगना

गर्मी का महीना.
बादल कहीं दिखे न
गर्मी का महीना.
टप-टप टपके पसीना
पंखा लागे नगीना
गर्मी का महीना.

5 टिप्‍पणियां:

  1. "पंखा लागे नगीना",बचपन में सुनी हुई किसी गीत की ये पंक्ति आज बिना बिजली की इस दोपहरी में बहुत याद आ रही है.

    उत्तर देंहटाएं
  2. हिन्दी ब्लॉगजगत के स्नेही परिवार में इस नये ब्लॉग का और आपका मैं संजय भास्कर हार्दिक स्वागत करता हूँ.

    उत्तर देंहटाएं
  3. .......बहुत खूब
    कृपया वर्ड वेरिफिकेशन हटा लें ...टिप्पणीकर्ता को सरलता होगी ...
    वर्ड वेरिफिकेशन हटाने के लिए
    डैशबोर्ड > सेटिंग्स > कमेंट्स > वर्ड वेरिफिकेशन को नो NO करें ..सेव करें ..बस हो गया .....!!

    उत्तर देंहटाएं